Labels

Thursday, December 24, 2015

एक आदमी जब ससुराल से बीवी लेकर चलने लगा तो उसकी सास ने उसको 100 रूपये दिए।

एक आदमी जब ससुराल से बीवी लेकर चलने लगा तो उसकी सास ने उसको 100 रूपये दिए।
-
-
घर पहुँचते ही उसने पत्नी से कहा, "तेरी माँ ने मेरी बेइज़्ज़ती कर दी......मैं 150 रूपये के केले लेकर गया था और उन को मुझे 100 रूपये पकड़ाते शरम नहीं आयी।
-
-
इतना सुनकर पत्नी माथा पकड़कर बैठ गयी,
.
.
.
.
बोली, "तू मुझे लेने गया था या वहाँ केले बेचने गया था........!"



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Monday, December 21, 2015

जन गण मन' का सच

जन गण मन' का सच


Infromartion Sabhar : panchjanya.com website


अक्सर यह चर्चा उठती है कि "जन-गण-मन' जार्ज पंचम की स्तुति में गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने रचा था। बाद में ब्रिटिश दबाव पर भारत सरकार ने वन्देमातरम् को नकार "जन-गण-मन' को ही अपनाया। आखिर सच क्या है? कुछ समय पूर्व पाञ्चजन्य में श्री जंगबहादुर का इस संबंध में पत्र छपा था, जिस पर हमें देशभर से प्रतिक्रियाएं प्राप्त हुई थीं। कोलकाता से श्री असीम कुमार मित्र ने इस विषय में गहन अनुसंधान के बाद लिखा है कि "जन-गण-मन' को जार्ज पंचम की स्तुति में रचा गीत कहना कम्युनिस्टों द्वारा गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर को बदनाम करने की एक चाल थी, जिसने पूरे देश में एक गलतफहमी पैदा की। प्रस्तुत है, "जन-गण-मन' के संबंध में यह शोधपूर्ण आलेख-

दअसीम कुमार मित्र

गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा रचित जन गण मन अधिनायक गीत का मूल अविकल पाठ इस प्रकार है। भारत सरकार ने राष्ट्रगीत के रूप में इसका प्रारम्भिक अनुच्छेद ही स्वीकार किया है।

जन गण मन-अधिनायक

जनगणमन-अधिनायक जय हे भारत भाग्यविधाता।

पंजाब सिंधु गुजरात मराठा द्राविड़ उत्कल बंग

विंध्य हिमाचल यमुना गंगा उच्छलजलधितरंग

तब शुभ नामे जागे, तब शुभ आशिस मंागे,

गाहे तब जय गाथा।

जनगणमंगलदायक जय हे भारत भाग्यविधाता।

जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय जय हे।।

अहरह तब आह्वान प्रचारित, शुनि तव उदार वाणी

हिंदु बौद्ध सिख जैन पारसिक मुसलमान ख्रिस्टानी

पूरब-पश्चिम आसे तब सिंहासन-पाशे,

प्रेमहार हय गाथा।

जनगण-ऐक्यविधायक जय हे भारत भाग्यविधाता।

जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय हे।।

पतन-अभ्युदय बंधुर पन्था, युगयुगधावित यात्री,

हे चिरसारथि, तब रथचक्रे मुखरित पथ दिनरात्रि।

दारुण-विपल्व माझे तब शंखध्वनि बाजे,

संकटदु:खत्राता।

जनगणपथ परिचायक जय हे भारत भाग्यविधाता।

जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय, जय हे।।

घोर तिमिरघन निविड़ निशीथे पीड़ित मूर्छित देशे

जाग्रत छिल तब अविचल मंगल नतनयने अनिमेषे।

दु:स्वप्ने आतंके रक्षा करिले अंके,

स्नेहमयी तुमि माता।

जनगणदु:खत्रायक जय हे भारत भाग्यविधाता।

जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय, जय हे।।

रात्रि प्रभातिल, उदिल रविच्छवि पूर्व-उदयगिरिभाले,

गाहे विहंगम, पुण्य समीरण नवजीवनरस ढाले।

तव करुणारुण-रागे निद्रित भारत जागे

तव चरणे नत माथा।

जय जय जय हे, जय राजेश्वर, भारत भाग्यविधाता।

जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय, जय हे।। हमारे देश के राष्ट्रगान को लेकर आज भी अनेक भ्रम बने हुए हैं। दु:ख की बात तो यह है कि इस देश के पढ़े-लिखे लोग भी अनायास ही इन गलतफहमियों का शिकार बन जाते हैं। उनमें असलियत पता लगाने का धैर्य या मानसिकता दिखाई नहीं देती। शायद यही कारण है कि "पाञ्चजन्य' ने भी 16 फरवरी, 2003 के अंक में "किस दृष्टि से यह "गान' राष्ट्रीय है?' शीर्षक पत्र प्रकाशित किया। पत्र लेखक मुम्बई के श्री जंग बहादुर जब यह लिखते हैं, "यह गान ब्रिटिश सम्राट के लिए है और आज भी हम और हमारी सेनाएं ब्रिटिश सम्राट और (अब) सम्राज्ञी के लिए इसे गाते आ रहे हैं' तब हमें न केवल दु:ख होता है बल्कि क्रोध से मन तिलमिला उठता है।

भावावेग की दुनिया से हटकर वास्तविकता के धरातल पर उतरकर इस विषय को देखने की कोशिश करें तो हमें असलियत का पता चल सकता है। रवीन्द्रनाथ ठाकुर एक कवि थे, राजनीतिक आंदोलनकारी नहीं। फिर भी जलियांवाला बाग में ब्रिटिश सैनिकों ने जब हमारे देशवासियों को गोलियों से भून डाला था और पूरे देश में कुछ इस तरह से आतंक छा गया था कि ब्रिटिश राज की इस करतूत के विरोध में प्रतिवाद करने तक का साहस किसी राजनेता के अन्दर दिखाई नहीं दिया था, तब रवीन्द्रनाथ आगे आए। उन्होंने ब्रिटिश सरकार द्वारा दी गयी उपाधि "नाइटहुड' त्याग देने की घोषणा की। मात्र इतने से वे नहीं रुके। घटना की निन्दा करने के लिए उन्होंने कोलकाता के टाउन हाल में आमसभा बुलाई। सभा में इतनी ज्यादा संख्या में लोग आए कि सभागार में सबको जगह देना संभव नहीं हुआ। रवीन्द्रनाथ सभा में आए और सबको लेकर मानमेन्ट मैदान (अब इसका नाम है शहीद मीनार मैदान) चले आए और खुद "वन्देमातरम्' गीत गाकर सभा की शुरुआत की थी।बचपन से ही रवीन्द्रनाथ स्वदेशी वातावरण में पले तथा बड़े हुए थे। उन दिनों बंगाल में हर वर्ष नवगोपाल मित्र द्वारा आयोजित होने वाले "हिन्दू मेले' में रवीन्द्रनाथ नियमित रूप से भाग लेते थे। स्वदेशी आन्दोलन की शुरुआत भी बंगाल में ही हुई थी, जिसमें रवीन्द्रनाथ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। सन् 1905 में जब ब्रिटिश राज ने बंगाल विभाजन का षड्यंत्र रचा तो रवीन्द्रनाथ ने रक्षाबन्धन को लोगों के सामने प्रस्तुत किया तथा इसे लोगों को जोड़ने वाले आन्दोलन के रूप में खड़ा किया।

रवीन्द्रनाथ के मन में हमारी राष्ट्रीयता के बारे में कोई भ्रम नहीं था। उन्होंने आत्मपरिचय लेख में लिखा था- "हिन्दुस्थान में बसने वाले सभी व्यक्ति हिन्दू हैं। मेरा धर्म चाहे कुछ भी हो, मेरी राष्ट्रीयता हिन्दू ही है। इसलिए परिचय देते समय मैं यह कहता हूं कि मैं हिन्दू ब्राह्म हूं, गोपाल हिन्दू वैष्णव है, सुधीर हिन्दू-शैव है, रहीम हिन्दू-इस्लाम और जान हिन्दू-ईसाई है....।'

राष्ट्रवादी रवीन्द्रनाथ को कम्युनिस्टों ने 1940 के दशक से ही बदनाम करना शुरू कर दिया था। रवीन्द्रनाथ ने ब्रिटिश सम्राट पंचम जार्ज की वन्दना में "जन-गण-मन....' गीत लिखा था, यह अफवाह भी शुरू में कम्युनिस्टों ने फैलायी थी। अब जब प. बंगाल में 25 सालों से कम्युनिस्टों की सरकार चल रही है, तब पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु और वर्तमान मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य आये दिन इस झूठे प्रचार के लिए आम जनता से क्षमा याचना कर रहे हैं। मुझे लगता है, पाञ्चजन्य के पत्र लेखक श्री जंग बहादुर को इस तरह की कोई पुरानी पुस्तक हाथ लग गयी होगी और बिना सोचे-समझे उन्होंने यह पत्र लिख दिया।

असल में "जन-गण-मन....' गान सन् 1911 के 27 दिसम्बर को कलकत्ता में शुरू होने वाले भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन के उपलक्ष्य में लिखा गया था और इस अधिवेशन के दूसरे दिन यह "गान' गाया भी गया था। परन्तु अफवाह यह फैलायी गयी थी कि दिसम्बर, 1911 में किंग जार्ज पंचम के भारत आगमन के उपलक्ष्य में दिल्ली दरबार में गाए जाने के लिए रवीन्द्रनाथ ने यह गीत लिखा था। अगर यह सच है तो यह रपट क्या है, जिसमें लिखा गया गया है-

"जो भी इस मामले में रुचि रखते हैं, उन्हें 1911 में भारत के शाही दौरे के ऐतिहासिक दस्तावेजों के सन्दर्भ जरूर देखने चाहिए। 1914 में भारत के वायसराय के आदेश से लंदन में जान मुरे द्वारा प्रकाशित इन दस्तावेजों से स्पष्ट हो जाता है कि शाही दौरे के समय दिसम्बर, 1911 में आयोजित दिल्ली दरबार में यह गीत कभी नहीं गाया गया था।' (इंडियाज नेशनल एंथम-प्रबोध चन्द्र सेन, पृ. 43)

श्री प्रबोध चन्द्र सेन द्वारा लिखी गयी इंडियाज नेशनल एंथम (भारत का राष्ट्र गान) पुस्तक के उन पृष्ठ 43 पर रवीन्द्रनाथ के दो पत्रों का भी उल्लेख है जो कवि ने बहुत ही दु:खी होकर लिखे थे-

"एक पत्र द्वारा इस अफवाह के संदर्भ में ध्यान आकर्षित किए जाने के बाद, उसका उत्तर देते हुए कवि ने लिखा, "इस गीत में मैंने सनातन सारथि की बात की है, जो मनुष्य की नियति का संचालक है, जिसके साथ-साथ राष्ट्रों का उत्थान और पतन भी जुड़ा हुआ है। युगों-युगों से मनुष्य की नियति के विधान का संचालक जार्ज पंचम, जार्ज षष्टम् या और कोई जार्ज नहीं हो सकता।'

1939 में लिखे एक अन्य पत्र में वह लिखते हैं, "यह मेरे अपने लिए अपमान की बात होगी अगर मैं ऐसे लोगों की बातों का जवाब दूं जो समझते हैं कि मैं जार्ज चतुर्थ या पंचम को अनंतकाल से मानव को तीर्थाटन की राह ले जाने वाले दैवीय रथ के सारथि की तरह पूजने जैसी मूर्खता कर सकता हूं।'

उस जमाने में कोलकाता से "दैनिक बसुमती' नामक एक दैनिक समाचार पत्र प्रकाशित होता था, जिसके संपादक थे हेमेन्द्र प्रसाद घोष। बंगाल के पत्रकार उन्हें जीवित वि·श्वकोष के रूप में जानते थे। जब हेमेन्द्र बाबू को इस अफवाह के बारे में बहुत दुखी हुए और खुद रवीन्द्रनाथ के पास गए और पूछा, "आपके बारे में ये सब क्या सुन रहा हूं?' रवीन्द्रनाथ ने उस जमाने के सबसे नामी संपादक से कहा, "हेमेन्द्र बाबू आप तो मुझे जानते हैं, चाहे कुछ भी हो जाए, मैं कभी किसी राजशक्ति की "भारत भाग्यविधाता' के रूप में कल्पना भी नहीं सकता।' वास्तव में उस समय अंग्रेज सरकार के दफ्तर में काम करने वाले एक प्रभावशाली व्यक्ति ने रवीन्द्रनाथ से अनुरोध किया था कि ब्रिटिश सम्राट भारत में आ रहे हैं तो उनकी सराहना करते हुए एक कविता लिखें। इसकी प्रतिक्रिया में रवीन्द्रनाथ ने कहा था, "सरकार में एक प्रभावी पद पर आसीन एक मित्र ने मुझसे बार-बार आग्रह किया कि मैं राजा की प्रशंसा में एक गीत की रचना करूं। उसके आग्रह ने मुझे आश्चर्य-चकित कर दिया और उस आश्चर्य में मेरे भीतर का आक्रोश भी मिल गया।' उसी हिंसक प्रतिक्रिया के दबाव में मैंने जन-गण-मन अधिनायक गीत में कालबाह्र सनातन सारथि भाग्यविधाता की अर्चना की है, जो युगों-युगों से राष्ट्रों को उत्थान-पतन की राह पर ले जाता है। यह उस भाग्यविधाता की अर्चना है, जो हमारे अन्तर्मन में वास करता है। किसी भी स्थिति में वह महान सनातन सारथि जार्ज पंचम् या जार्ज षष्टम या कोई और जार्ज नहीं हो सकता। हालांकि मेरे उस स्वामिभक्त मित्र को अहसास हो गया कि राजा के प्रति उसकी स्वामिभक्ति चाहे कितनी भी अडिग क्यों न हो, वह उस स्तर तक नहीं पहुंच सकता।' (इंडियाज नेशनल एंथम, प्रबोध चन्द्र सेन पृष्ठ-7)

12, दिसम्बर, 1911 को ब्रिटिश सम्राट के भारत पधारने के दो सप्ताह पहले ही बंगाल का विभाजन रद्द कर दिया गया था। इससे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस बेहद खुश हुई थी। उस समय कांग्रेस के अध्यक्ष थे सुरेन्द्रनाथ बनर्जी। उन्होंने एक दूत भेजकर गुरुदेव रवीन्द्रनाथ को राजा के सम्मान में एक गीत लिखने के लिए आग्रह किया था। रवीन्द्रनाथ यह सुनते ही बहुत क्रोधित हुए। बाद में उन्होंने कहा था कि यह "जन-गण-मन...' एक क्रोधित कवि के क्रोध की अभिव्यक्ति है। ब्रिटिश सम्राट की प्रशंसा में कविता लिखे जाने को रवीन्द्रनाथ ने निरी मूर्खता बताया था। कोलकाता कांग्रेस अधिवेशन के दूसरे दिन यानी 27 दिसम्बर, 1911 का अधिवेशन जन-गण-मन... गान से ही शुरू हुआ था। इसके बाद एक हिन्दी गीत गाया गया था जो कि ब्रिटिश सम्राट जार्ज पंजम के भारत आगमन के उपलक्ष्य में विशेष रूप से लिखवाया गया था। कांग्रेस के 28वें अधिवेशन की रपट में लिखा गया है, "अधिवेशन की कार्यवाही बाबू रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा रचित देशभक्ति गीत के साथ शुरू हुई। (इसके बाद मित्रों द्वारा भेजे गए संदेश पढ़े गए और राजा के प्रति स्वामिभक्ति प्रदर्शित करने वाले प्रस्ताव पारित किए गए।) उसके बाद इस अवसर पर राजा के स्वागत के लिए विशेष रूप से रचित गीत गाया गया। (इंडियाज नेशनल एंथम, प्रबोध चन्द्र सेन, पृष्ठ-9)'

इस रपट से भी यह स्पष्ट है कि रवीन्द्रनाथ का जन-गण-मन... एक देशात्मबोधक गीत ही था न कि वह किसी व्यक्ति की वन्दना में लिखा गया था। फिर यह अफवाह उड़ी कैसे? इसके लिए ब्रिटिश सम्राट तथा शासन के समर्थक तीन प्रचार माध्यमों की रपटें उत्तरदायी हैं- (1)"द इंग्लिश मैन' (28 दिसम्बर, 1911) (2) "द स्टेट्समैन (28 दिसम्बर, 1911) तथा (3) रायटर-इन तीनों ने यह लिख दिया था कि कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश सम्राट की स्तुति में गाया गया गीत रवीन्द्रनाथ का था।' जबकि ऐसा कोई गीत रवीन्द्र नाथ द्वारा लिखा ही नहीं गया था। इस झूठे प्रचार के कारण आज भी कुछ लोग इस विषय को लेकर अफवाह फैलाने का साहस करते हैं।




Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

जन गण मन में अधिनायक कौन?

जन गण मन में अधिनायक कौन?



राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह चाहते हैं कि हमारे राष्ट्रीय गान में कुछ शब्दों को बदल दिया जाए. बीजेपी नेता रहे कल्याण सिंह के मुताबिक राष्ट्रगान में इस्तेमाल हुए अधिनायक शब्द ब्रिटिश राज की याद दिलाने वाला है और इसकी जगह मंगल शब्द का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. कल्याण सिंह के इस बयान के बाद बहस खड़ी हो गई है.
ऐसा कोई भारतीय नहीं है जो गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर के लिखे गीत के इन शब्दों और उन्हीं की दी गई धुन से ना गुजरा हो. ये अब हमारा राष्ट्रगान है और हमारी राष्ट्रीय धुन भी है. राष्ट्रगान के बोल पिछले 65 साल से हमारी आजादी और संप्रभुता पर गर्व करने का मौका देते रहे हैं.
1911 में रवींद्रनाथ टैगोर की कलम से निकले इस गीत को 24 जनवरी साल 1950 को भारत का राष्ट्रगान घोषित किया गया था. तब से ही ये हमारी राष्ट्रीय अस्मिता का प्रतीक बना हुआ है लेकिन अब 65 साल बाद राजस्थान के गर्वनर और इससे पहले बीजेपी के नेता रहे कल्याण सिंह को राष्ट्रगान में इस्तेमाल हुए इस अधिनायक शब्द पर ऐतराज हो रहा है.
कल्याण सिंह राष्ट्रगान की पहली पंक्ति में आने वाले अधिनायक शब्द की जगह मंगल शब्द का इस्तेमाल करने की सिफारिश कर रहे हैं ये कहते हुए कि अधिनायक शब्द उन्हें ब्रिटिश राज की याद दिलाता है जिसे अब मिटा देना चाहिए. उनके इस तर्क का समर्थन बीजेपी के नेता भी कर रहे हैं.
बीजेपी साथ खड़ी है लेकिन वामदल और कांग्रेस ने कल्याण सिंह के इस बयान को ना सिर्फ सिरे से खारिज कर दिया है बल्कि ये भी पूछ रहे हैं कि 65 साल बाद क्यों?
इस बहस में राज्यपाल भी कूद पड़े हैं. राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को त्रिपुरा के गवर्नर तथागत राय ने मशविरा दिया है कि बदलाव की बात ठीक नहीं है.
कल्याणजी, प्रणाम| 68 साल हुए भारत को आजाद हुए तो अब हमारे अधिनायक अंग्रेज क्यों होंगे ? मैं राष्ट्रगान में किसी भी परिवर्तन को उचित नहीं समझता हूं.
कल्याण सिंह के ताजा बयान ने एक बार फिर उस आरोप को भी हवा दे दी है जिसके मुताबिक बीजेपी और आरएसएस देश के इतिहास में बदलाव की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन देश की जनता पूछ रही है कि क्या वाकई राष्ट्रगान जैसे प्रतीकों को भी अब राजनीति में घसीटा जाएगा?
अधिनायक कौन है?
राष्ट्रगान में इस्तेमाल हुए अधिनायक शब्द पर आपत्ति दरअसल नई नहीं है. ये विवाद तो तब से चला आ रहा है जब ये तय हुआ था कि रवींद्रनाथ टैगोर के लिए जन गण मन को भारत अपना राष्ट्रगान मानेगा. उस दौर का इतिहास में ही ऐसे बीज पड़ गए थे जो आज एक बार फिर विवाद की वजह बन गए हैं और आज भी यही सवाल उठा है अधिनायक कौन है?
15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ था लेकिन तब दुनिया के दूसरे आजाद मुल्कों की तरह भारत के पास अपना नेशनल एंथम यानी राष्ट्रगान नहीं था. तब जिस गीत ने आजादी के जश्न को मुकम्मल किया था वो था वंदे मातरम. 14 और 15 जून की आधी रात उसी वंदेमातरम के साथ पंडित जवाहर लाल नेहरू ने आजादी का ऐलान किया था.
ऐसे में भारत का संविधान रचने और आजाद भारत के राष्ट्रीय प्रतीकों को गढ़ने चुनने की जिम्मेदारी संविधान सभा पर छोड़ दी गई थी. ये संविधान सभा अगले तीन साल तक बैठकें और बहसें करती रही. तब तक भारत दो बार आजादी का जश्न भी मना चुका था लेकिन आप ये जानकर चौंक जाएंगे कि संविधान सभा के सदस्यों की लगातार मांग के बावजूद राष्ट्रगान के मुद्दे पर कभी कोई बहस या चर्चा नहीं हुई. तब तक जब तक 24 जनवरी 1950 की तारीख ने दस्तक नहीं दे दी.
26 जनवरी 1950 को भारत गणतंत्र बनने जा रहा था इससे ठीक दो दिन पहले संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद ने सीधे एक बयान दिया और जन गण मन भारत का राष्ट्रगान बन गया.
24 जनवरी 1950 को संविधान सभा की कार्यवाही के मुताबिक डॉ राजेंद्र प्रसाद ने कहा. एक मुद्दा काफी समय से चर्चा के लिए लंबित है जो कि हमारे राष्ट्रगान से जुड़ा है. मुझे ऐसा महसूस हुआ कि सदन में प्रस्ताव पेश करके किसी औपचारिक फैसले से बेहतर है कि राष्ट्रगान के बारे में एक बयान दे दूं. इसलिए मैं बयान देता हूं कि उस कंपोजीशन की धुन, संगीत और शब्द जिसे जन गण मन के नाम से जाना जाता है वही भारत का राष्ट्रगान है. इसमें अगर सरकार चाहे तो मौजूदा हालात के मुताबिक शब्दों को बदल सकती है.
इसके बाद राष्ट्रगान के शुरुआती हिस्से को ना सिर्फ राष्ट्रगान मान लिया गया बल्कि संविधान सभा की आखिरी बैठक 26 नवंबर 1949 को पूर्णिमा बनर्जी की आवाज में पहली बार राष्ट्रगान के तौर पर गाए गए जन गण मन गीत से खत्म हुई थी. लेकिन उस वक्त जो बहस संविधान सभा में नहीं हुई वही बहस आज फिर से उठ खड़ी हुई है.
जन गण मन को लेकर विवाद की जड़ें हमें साल 1911 में ले जाती हैं. उस दौर में भारत गुलाम था और अंग्रेजी हुकूमत ने अपने नए बादशाह जॉर्ज पंचम की लंदन में ताजपोशी की थी.
गुलाम भारत अपने हुक्मरानों के जश्न से पीछे कैसे रह सकता था. जॉर्ज पंचम ने भारत आने का कार्यक्रम बनाया. मुंबई में जॉर्ज पंचम के लिए भव्य गेट वे ऑफ इंडिया बनाया गया जहां से उन्हें भारत में कदम रखना था और भारत की राजधानी को कोलकाता से दिल्ली लाने का अहम ऐलान करना था. इसके लिए दिल्ली में सजाया गया था दिल्ली दरबार – देश भर के राजा महाराजा ब्रिटेन के हुक्मरान जॉर्ज पंचम के लिए पलकें बिछाए बैठे थे.
ये साल 1911 का जुलाई महीना था और तब ही कोलकाता में जो तब कलकत्ता हुआ करता था कांग्रेस का अधिवेशन हो रहा था. अधिवेशन के दूसरे दिन यानी 27 दिसंबर 1911 को जॉर्ज पंचम के भारत आने की खुशी में कार्यक्रम होने थे वो भी जॉर्ज पंचम की गैरमौजूदगी में. इसी कार्यक्रम में जो कुछ हुआ उसकी वजह से जन गण मन को लेकर एक विवाद ने भी जन्म लिया.
1905 में बंगाल विभाजन के अंग्रेजों के विरोध में देशभक्ति के गीत रचने वाले रवींद्रनाथ टैगोर तब राजनीति से बाहर निकल कर साहित्य साधना में डूब चुके थे. कांग्रेस ने उनसे जॉर्ज पंचम का स्वागत गीत लिखने का अनुरोध किया था और 27 जुलाई 1911 को रवींद्रनाथ टैगोर का लिखा जन गण मन गीत कांग्रेस के अधिवेशन में गाया गया.
इस गीत की पहली पंक्ति में अधिनायक शब्द को तब के ब्रिटिश मीडिया ने जॉर्ज पंचम की प्रशंसा माना .
स्टेट्स मैन ने 28 जुलाई 1911 को लिखा
बंगाली कवि रवींद्रनाथ टैगौर ने खासतौर पर राजा जॉर्ज पंचम की प्रशंसा में अपनी धुन पर लिखा अपना ही गीत गाया.
इंग्लिशमैन ने भी 28 जुलाई को रिपोर्ट किया
कार्यवाही की शुरुआत रवींद्रनाथ टैगोर के गीत से हुई जो खासतौर पर उन्होंने राजा जॉर्ज पंचम के सम्मान में लिखा है.
रवींद्रनाथ टैगोर के गीत को लेकर ब्रिटिश मीडिया की इस रिपोर्टिंग ने ना सिर्फ जन गण मन को ब्रिटिश हुकूमत की प्रशंसा के विवाद में ला दिया बल्कि रवींद्रनाथ टैगोर की देशभक्ति पर भी सवाल उठाए गए. लेकिन क्या ये पूरा सच था?
28 जुलाई 1911 को रवींद्रनाथ टैगोर के बारे में भारत के अखबार क्या लिख रहे थे? 
अमृत बाजार पत्रिका ने लिखा
कांग्रेस का सेशन बंगाली भाषा में भगवान की स्तुति में लिखे गीत से हुई. इसके बाद राजा जॉर्ज पंचम के प्रति वफादारी का प्रस्ताव पास हुआ और उसके बाद किंग जॉर्ज पंचम के स्वागत में भी एक गीत हुआ.

अमृत बाजार पत्रिका, 28 जुलाई 1911
तो क्या साल 1911 में किंग जॉर्ज पंचम के स्वागत में जो गीत गाया गया था वो रवींद्रनाथ टैगोर ने नहीं लिखा था?
इतिहास के मुताबिक 27 जुलाई 1911 को एक नहीं तीन गीत गाए गए थे. शुरुआत में जन गण मन और फिर राजभुजादत्त चौधुरी का लिखा गीत ‘बादशाह हमारा’ गाया गया. कार्यक्रम के अंत में कवियत्री सरलादेवी ने भी एक गीत गाया था. तो क्या ब्रिटिश मीडिया ने ‘बादशाह हमारा’ गीत जो कि जॉर्ज पंचम की प्रशंसा में लिखा गया था उसे ही रवींद्रनाथ का गीत मान लिया या फिर वो जन गण मन के बारे में लिख रहे थे?
यही भ्रम विवाद की वजह बन गया. टैगोर के समर्थक इसे झूठ बताते रहे हैं. टैगोर की जीवनी रबींद्रजीबनी के मुताबिक टैगोर ने कांग्रेस अधिवेशन से पहले अपने मित्र पुलिन बिहारी मुखर्जी को एक खत लिखा था.
महामहिम की सेवा में लगे एक महान शख्स ने जो कि मेरे भी मित्र हैं अनुरोध किया है कि मैं राजा के स्वागत में गीत लिखूं. इस पेशकश ने मुझे चौंका दिया है. इसने मेरे हृदय को पीड़ा से भर दिया है. इस मानसिक आघात में मैंने देश की आजादी के लिए गीत लिखा है.
रवींद्र नाथ टैगोर ने इस बारे में कभी बड़ी सफाई नहीं दी. भारत के आजाद होने से पहले साल 1946 में उनका निधन हो गया. लेकिन उनके समर्थक उनके साहित्य से आज भी जन गण मन के समर्थन में तर्क निकाल लाते हैं.
19 मार्च 1939 को फिर लिखा
अगर मैं उन लोगों को जवाब दूंगा जो मुझे जॉर्ज चतुर्थ या पंचम की प्रशंसा में गीत लिखने की भयावह मूर्खता के लायक समझते हैं तो मैं अपना ही अपमान करूंगा.
(रवींद्र नाथ टैगोर , पूर्वासा में)
लेकिन राष्ट्रवादी विचारधारा के लोग रवींद्रनाथ टैगोर के लिखे जन गण मन गीत के शब्दों को लेकर वार करते रहे हैं. राष्ट्रगान की पहली पंक्ति के अधिनायक शब्द को भी वो राजा जॉर्ज पंचम के लिए इस्तेमाल किया हुआ ही मानते हैं. इससे पहले भी राष्ट्रगान से सिंध शब्द को हटाकर कश्मीर शब्द को लाने की मांग उठी थी क्योंकि सिंध अब पाकिस्तान का हिस्सा है.

Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Breaking News : सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्र गान में बदलाव के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा

Breaking News : सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्र गान में बदलाव के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा

नयी दिल्ली : नेशनल हेराल्ड को लेकर पिछले दिनों सुर्खियों में रहे सुब्रमण्यम स्वामी एक बार फिर खबरों में है. स्वामी ने इस बार प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर अपील की है कि राष्ट्रगान में बदलाव लाया जाये.

Dr @Swamy39 writes to our honourable PM @narendramodi for a slight change in national anthem. @jagdishshetty pic.twitter.com/LUPPJdi7TC

— harsh yadav (@harshyadav0012) December 21, 2015
 

उन्होंने पत्र में लिखा है कि प्रधानमंत्री आप जानते है कि देश में राष्ट्रगान 'जन गण मन ' को राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद के वोटिंग के बिना ही संविधान सभा ने स्वीकार कर लिया था. जन गण मन को  कांग्रेस के 1912 के अधिवेशन  में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था. उन्होंने लिखा कि इसके कुछ अंश अब भी विवादित है. इसलिए राष्ट्रगान में बदलाव करना चाहिए.

स्वामी ने लिखा है कि संसद में इसके लिए प्रस्ताव लाना चाहिए. इसके धुन को छेड़छाड़ किये बगैर इसके शब्दों में बदलाव लाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में सुभाष चंद बोस का सुझाव माना जा सकता है. स्वामी के अनुसार सुभाष चंद्र बोस ने सिर्फ 5 प्रतिशत शब्दों में बदलाव की बात कही थी.
#slight change | #national anthem | #PM narendramodi




Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Breaking News: राष्ट्र गान जन गण मन अधिनायक को बदलने लिए सुब्रह्मनियम स्वामी ने प्रधानमंत्री जी को पत्र लिखा

Breaking News: राष्ट्र गान जन गण मन अधिनायक को बदलने  लिए सुब्रह्मनियम  स्वामी ने प्रधानमंत्री जी को पत्र लिखा 

कई लोगों का मानना है की रविन्द्र नाथ टैगोर ने राष्ट्र गान जन गण मन अधिनायक की रचना ब्रिटिश वायसराय  जॉर्ज पंचम के भारत आगमन और
उनके स्वागत स्वरुप की थी , रविन्द्र नाथ टैगोर के नोबल पुरस्कार पर भी कई लोग प्रश्न उठाते हैं

जन गण मन अधिनायक में अधिनायक कौन हैं - ब्रिटिश वायसराय  जॉर्ज पंचम

भारत भाग्य विधाता कौन - ब्रिटिश वायसराय  जॉर्ज पंचम





Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Sunday, December 20, 2015

She left her MBA Degree Behind to Change the Lives of 400 Girls in Delhi Slums with Art & Colour

She left her MBA Degree Behind to Change the Lives of 400 Girls in Delhi Slums with Art & Colours


**********************
A BIG SALUTE TO HER FROM OUR BLOG FOR A GOOD SOCIAL WORK
**************************

Sonal is the founder of Protsahan, a social enterprise that uses creative education and art innovation to empower street children and young adolescent girls.




It all started when the 24-year-old Sonal was shooting a film for a corporate. She came across a pregnant woman who had six daughters and was expecting her seventh child. The young lady was sitting with one of her daughters when Sonal approached her with an apple. Seeing this, the mother told her that the little girl would not be able to recognize it as a fruit, simply because she had never seen one. As the conversation continued, Sonal heard this woman utter words that would change the trajectory of her own life.
The woman was living in poverty and obviously struggling to take care of her children. In a very matter-of-fact manner, she told Sonal, that if she had a daughter again she was quite prepared to strangle the child. So unfortunate was their condition that she was already planning on sending one of her daughters, 8-year-old Julie, to a brothel to bring in money that would in turn feed the rest of the family. Sonal says she froze on hearing these words. It took her just about an hour to make up her mind that she wanted to change the life of girls like Julie. And within three weeks, Protsahan started as a one room creative arts and design school in a dark slum in Delhi





Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

A VILLAGE IN BIHAR THAT HARNESSED THE SUN POWER / SOLAR ENERGY VILLAGE DHARNAI, JAHANABAD IN BIHAR / EFFORT BY GREENPEACE

A VILLAGE IN BIHAR THAT HARNESSED 

THE SUN POWER / SOLAR ENERGY 

VILLAGE DHARNAI, JAHANABAD IN 

BIHAR / EFFORT BY GREENPEACE



While the country is reeling under a severe power crisis, with the state unable to provide uninterrupted electricity supply even to the national capital, a small village in Bihar has tapped solar power to light up



Thirty-year-old Suresh Manjhi of Mahadalit tola in Dharnai will not have to walk five kilometres to and from the nearest Makhdumpur town every day to charge his mobile phone anymore. His world will not be engulfed in darkness once the sun goes down and neither will he have to depend on kerosene-fuelled earthen lamps as the only source of light once the darkness settles in.
Today, he can light up his home, charge his phone and have a bright street light glowing outside. Why? Because after 30 years of darkness, the lights are on in Dharnai! Located on National Highway 83, Dharnai revenue village, in Makhdumpur block of Jehanabad district in Bihar, declared itself energy-independent on July 20, this year, with the launch of Greenpeace India’s solar-powered smart micro-grid. The electrification project has made the lanes of this non-descript village the hub of community interaction after the sun goes down. Today, this village is the talk of the State. It is the first village in India where all aspects of life are powered by solar energy.
It is unbelievable that even 67 years after independence, a village so close to the State capital, Patna, and a world pilgrimage city, Gaya, was left in complete darkness — until, Dharnai broke free of the cliché and declared itself energy-independent by switching on the sun!
For over 30 years, high-tension electric wires have passed by this village without lighting up a single home. This incredible reality of Dharnai had impacted the dreams and hopes of Dharnai’s youth, who grew up in an era of darkness, often leading to despair. “While India was growing leaps and bounds, we were stuck here for the last 30 years, trying everything in the book to get electricity. We were forced to struggle with kerosene lamps and expensive diesel generators”, said 40-year-old entrepreneur Kamal Kishore who is a resident of the village.
But, today, the dark days are gone. Built within three months and on a test-run since March, the 100 kilowatt micro-grid, launched by Greenpeace with the help of NGOs, BASIX and Centre for Environment and Energy Development, is powering 60 street lights and serving the energy requirements of 450 homes which have 2,400 residents, 50 commercial establishments, two schools, a training centre and a healthcare facility. The system works even after dark and on cloudy days because of the battery bank that stores energy. “It does not feel like we are living in darkness. Today, children are studying well and women are able to cook late in the evening. Villagers are getting many benefits from this venture, including the commercial establishments”, 65-year-old farmer Ashok Kumar Singh, another resident, said.
As I walked through the muddy lanes deep into the village, I saw more happy faces with stories waiting to be shared. There were faces of optimism, of renewed hopes, and of empowerment. Gupendra Das shared his optimism as we waited at the Barabar Halt railway station. “Today, for the first time in ages we are seeing power supply. Now our children can study after dark. I hope with the light, the sun god will bring enlightenment to our homes too.”
Dharnai is a unique example of a community-driven electricity project. For the first time in India, an entire village has been electrified through 100 per cent renewable means, along with the involvement of the village community. The micro-grid has been set up with permissions from the gram sabha, the panchayat and the people of the village. The community has been part of the awareness drive as well as discussions about tariff and the working of the micro-grid. “The tariffs were, in fact, decided by the community itself after mutual understanding and discussions. The community is also part of the village electrification committees that will handle the day-to-day running of the micro-grid”, said Greenpeace coordinator Nagesh Anand.
For just Rs.75 a month, villagers like Suresh Manjhi and Gupendra Das can now light up their homes, charge their phones and have street light glowing outside. These, at such a price, were a distant dream for them even three months back when they either had to depend on kerosene lamps or diesel generators that were burning holes in their pockets and lungs.
The story of the micro-grid project is inspiring. Dharnai’s experience illustrates how, in a country like India, energy access can be achieved without compromising the environment with coal pollution. “The micro-grid intends to be the answer to the intense policy and vision paralysis that India’s energy sector faces today. The towns and villages of Bihar have been deprived of energy for decades now and we feel this is where the micro-grid can be bridge to empowerment. We urge the Bihar Government to follow and replicate this model”, said Naveen Mishra of CEED
Thirty years ago, due to various reasons, Dharnai lost its electricity infrastructure. Since then, the villagers have suffered due to lack of electricity and have been waiting to get electricity back to the village. Kolesar Ravidas of Jhitkoria tola lamented the poor condition of the village and continued political apathy in spite of changes in Government. “The political parties come to our village before the polls and promise empty rhetoric, raising our hopes. But once the elections are over, forget the power supply; the faces of our representatives disappear.” His anger is towards the current Chief Minister, Mr Jitan Ram Manjhi, who hails from Makhdumpur block too. “He is one of our own. When he visited Dharnai after becoming the Chief Minister we pleaded with him to at least light up the streets. But it seems all our cries fell on deaf ear”.
Sunil Kumar, the chairman of the village cooperative society, shared that successive State Governments turned a blind eye towards Dharnai. “We have paid the security deposit and completed the paper-work for reinstalling electricity 10 years back. But, since then we’re running from pillar to post to catch hold of the authorities.”
Bihar has been struggling with energy access for decades. The State faces chronic electricity supply shortages, resulting from inadequate investments in generation and distribution capacity. Acute poverty, paired with villages’ geographic concentration in remote, rural areas, have left much of the population in Bihar without access to electricity. In a nutshell, 82 per cent of the State lacks electricity. That has now changed in Dharnai. “The best part is there are no power-cuts in Dharnai”, said Santan Kumar, a local, who works as an electrician in this project. “Even in Patna, you are never sure if the lights will be on when you are studying or cooking at night. But our electric supply system is dependable, reliable and it is managed by us”, exclaimed Santan with pride.
Lighting up homes in a village like Dharnai means giving women and girls in rural India a chance at education; a chance to live their lives with dignity and respect; and a chance for better health and livelihood. Ranti Devi, a local resident, sounded confident when she said: “We had a lot of problems in the past, but since the lights have been installed in our homes it has been easier for us to cook and for our children to study. We can walk around in the streets at night without any fear”.
Samit Aich, executive director of Greenpeace India, said at the launch of the project: “The coal-fired and nuclear-fired power plants of the country will not be able to reach the Dharnais of the country. Nor will they be able to address global climate concerns and India's commitments towards those concerns. India needs to seriously reconsider its energy strategy and prioritise renewable energy for social and climate justice.”
There is a story here that goes well beyond India. For decades, Dharnai was subjected to apathy. But, today it is self-reliant. People of Dharnai don’t depend on the conventional grid to empower their lives anymore. In a power-deficit country, where thousands of villages are still living in darkness, where the state is unable to provide uninterrupted electricity even to the metros, Dharnai has set a benchmark on how decentralised renewable energy is a workable solution.
When, in the name of development and power generation, ancient forests are being cleared, communities displaced, wildlife disturbed, Dharnai provides a roadmap for sustainable development. The village has shattered all the myths that cynics have been propagating about the supposed non-feasibility of renewable energy. Its solar-powered micro-grid could be a game-changer, a model for bringing clean and reliable energy to millions across the world.




Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Saturday, December 19, 2015

आओ आज फिर एक बार बचपन में चलें 1. कच्चा पापड़, पक्का पापड़......

आओ आज फिर एक बार बचपन में चलें 
1. कच्चा पापड़, पक्का पापड़......
सबसे ज़्यादा फेमस और हमारे दिल के सबसे नज़दीक । एक बार में 15 बार बोल के दिखाओ तो वीर कहलाओ......
2. फालसे का फासला.........
चैलेंज है कि 20 बार बिना रुके बोल कर दिखाओ........
3. पीतल के पतीले में पपीता पीला पीला........
मुस्कुरा क्या रहे हो, 13 बार इसे बोल कर दिखाओ.......
4. पके पेड़ पर पका पपीता पका पेड़ या पका पपीता........
मेरी जीभ तो लगभग फ्रैक्चर होते-होते बची है.......
5. ऊंट ऊंचा, ऊंट की पीठ ऊंची. ऊंची पूंछ ऊंट की......
क्यों बच्चू नानी याद आ गई.....
6. समझ समझ के समझ को समझो, समझ समझना भी एक समझ है. समझ समझ के जो न समझे, मेरे समझ में वो ना समझ है......
मैं तो इसे बोलने की कोशिश भी नहीं करूंगा.......
7. दूबे दुबई में डूब गया.......
अच्छा ठीक है. ज़्यादा ख़ुश मत हों. ये आपकी फूलती सांसों को आराम देने के लिए था.........
8. चंदु के चाचा ने चंदु की चाची को, चांदनी चौक में, चांदनी रात में, चांदी के चम्मच से चटनी चटाई.......
अब चाहे तुम जो कुछ भी करना, मगर अपने बाल मत नोंचना.......
9. जो हंसेगा वो फंसेगा, जो फंसेगा वो हंसेगा.........
आपको ये आसान लग रहा है. जरा इसे 10 बार से ज़्यादा बार बोल कर दिखाइए.......😋😋
10. खड़क सिंह के खड़कने से खड़कती हैं खिड़कियां, खिड़कियों के खड़कने से खड़कता है खड़क सिंह......
अब मेरे तो पूरे बदन में खड़कन हो रही है.......😴😴
11. मर हम भी गए, मरहम के लिए, मरहम ना मिला. हम दम से गए, हमदम के लिए, हमदम ना मिला......😎😎
बोलो-बोलो मुंह मत चुराओ.....
12. तोला राम ताला तोल के तेल में तल गया, तला हुआ तोला तेल के तले हुए तेल में तला गया......
ऐसे क्या देख रहे होे.......
13. डाली डाली पे नज़र डाली, किसी ने अच्छी डाली, किसी ने बुरी डाली, जिस डाली पर मैने नज़र डाली वो डाली किसी ने तोड़ डाली......
तो फ़िर 5 बार लगातार बोलो तो जानूं ।
14. पांच आम पंच चुचुमुख-चुचुमुख, पांचों मुचुक चुचुक पंच चुचुमुख.......😈😈
वो क्या है न कि यह मेरा फेवरेट है और यदि आप इसको 10 बार बिना लड़खड़ाए बोल दोगो न,
तो आपका इनाम पक्का




Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

सिलेण्डर हादसे होते हैं। कैसे पता करें एक्सपायरी डेट !

सिलेण्डर  हादसे होते हैं।
कैसे पता करें एक्सपायरी डेट !



सिलेण्डर के उपरी भाग पर उसे पकड़ने के लिए गोल रिंग होती है और इसके नीचे तीन पट्टियों में से एक पर काले रंग से सिलेण्डर की एक्सपायरी डेट अंकित होती है। इसके तहत अंग्रेजी में A, B, C तथा D अक्षर अंकित होते है तथा साथ में दो अंक लिखे होते हैं।
A अक्षर साल की पहली तिमाही (जनवरी से मार्च),
B साल की दूसरी तिमाही (अप्रेल से जून),
C साल की तीसरी तिमाही (जुलाई से सितम्बर)
तथा
D साल की चौथी तिमाही अर्थात अक्टूबर से दिसंबर को दर्शाते हैं।
इसके बाद लिखे हुए दो अंक एक्सपायरी वर्ष को संकेत करते हैं।
यानि यदि सिलेण्डर पर A 11 लिखा हुआ हो तो सिलेण्डर
की एक्सपायरी मार्च 2011 है। इस सिलेण्डर का "मार्च 2011" के बाद उपयोग करना खतरनाक होता है।
इस प्रकार के सिलेण्डर बम की तरह कभी भी फट सकते हैं।
ऐसी स्थिति में उपभोक्ताओं को चाहिए कि वे इस प्रकार के
एक्सपायर सिलेण्डरों को लेने से मना कर दें तथा आपूर्तिकर्त्ता एजेंसी को इस बारे में सूचित करें !
(एक्शन फॉर सोशल एन्ड ह्यूमन एडवांसमेंट द्वारा जनहित में जारी)
Note : कृप्या घरेलू सुरक्षा के मद्देनजर इस पोस्ट को अधिक-अधिक शेयर करे



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

कीर्ति आजाद आज करेंगे बड़े 'डीडीसीए भ्रष्टाचार' का भंडाफोड़ रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 'सबसे बड़े डीडीसीए भ्रष्टाचार का भंडाफोड़ करेंगे' और 'बहरूपिये का चेहरा बेनकाब करेंगे' मुझे निपटाने के लिए सोनिया से मिले थे 'आजाद': जेटली Kirti Aazad will expose Big Fraud Names of DDCA Today

कीर्ति आजाद आज करेंगे बड़े 'डीडीसीए भ्रष्टाचार' का भंडाफोड़

रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 'सबसे बड़े डीडीसीए भ्रष्टाचार का भंडाफोड़ करेंगे' और 'बहरूपिये का चेहरा बेनकाब करेंगे'
मुझे निपटाने के लिए सोनिया से मिले थे 'आजाद': जेटली
Kirti Aazad will expose Big Fraud Names of DDCA ScamToday


जेटली और आजाद के बीच जुबानी नोकझोंक
जेटली ने आजाद को कथित रूप से 'ट्रोजन हॉर्स' कहा था। वह इस पर चुटकी लेते हुए भी दिखाई दिए। आजाद ने एक ट्वीट में कहा, 'ट्रोजन हॉर्स नहीं, बल्कि एचिलेस हील, बहरूपिये को बेनकाब किए जाने तक इंतजार कीजिए।' उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'कल शाम चार बजे ऑडियो-विजुअल के साथ सबसे बड़े डीडीसीए भ्रष्टाचार का खुलासा करूंगा।' आजाद ने अटल बिहारी वाजपेयी की कविता का जिक्र करते हुए कहा कि वह आगे बढ़ेंगे और हार नहीं 'मानेंगे'।

बीजेपी अध्यक्ष ने की थी मनाने की कोशिश
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इस बीजेपी सांसद को बुलाया था और उन्हें समझाया था कि वह ऐसे समय आरोपों पर आगे नहीं बढ़ें, जब विपक्षी दल, खासकर आप डीडीसीए में कथित भ्रष्टाचार को लेकर जेटली को निशाना बना रही है। बहरहाल, आजाद ने बाद में अपने इस फैसले को दोहराया था कि वह रविवार को संवाददाता सम्मेलन करेंगे। आजाद डीडीसीए में कथित भ्रष्टाचार को लेकर जेटली के कटु आलोचक रहे हैं









Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें...http://7joke.blogspot.com

Breaking News : विधवा को मिड डे मील बनाने से रोका, DM ने खुद बनवाकर खाया

Breaking News : विधवा को मिड डे मील बनाने से रोका, DM ने खुद बनवाकर खाया
समस्या थी की गांव वालों ने पंचायत की - कि विधवा की परछाई बच्चों पर न पड़े 
इसलिए विधवा के स्कूल में खाना बनाने पर रोक लगा दी 

19 December, 2015
स्कूल पहुंच डीएम ने बनवाया खाना और खुद खाया
बिहार के गोपालगंज जिले में एक विधवा को गांववालों ने मिड डे मील बनाने से रोक दिया. वहां के डीएम राहुल कुमार को जैसे ही यह खबर मिली, वह खुद स्कूल पहुंच गए. उन्होंने उसी महिला से मिड डे मील बनवाया और खुद भी खाया. इसके साथ ही आदेश दिया कि खाना वही विधवा बनाएंगी.

राहुल ने ट्वीट कर साझा की तस्वीरें



घटना गोपालगंज जिले के कल्याणपुर की है. राहुल ने स्कूल पहुंच वहां की तस्वीरें भी साझा की और कहा कि कभी-कभी कुछ प्रतीकात्मक चीजें लोगों का अंधविश्वास तोड़ देती हैं. मैंने उसी विधवा से खाना बनाने को कहा और उन्होंने ही परोसा भी.
डीएम के आदेश पर विधवा की बहाली
कल्याणपुर पंचायत के मुखिया रामदेव पासवान ने बताया कि ग्रामीणों के आरोप पर ही पहले विधवा को हटाया गया था. डीएम के आदेश के बाद दोबारा उन्हें इस स्कूल में मिड डे मील बनाने का जिम्मा सौंपा गया. ग्रामीणों ने महिला के आचरण पर सवाल उठाया और उन्हें बच्चों के लिए एक अपशकुन करार देते हुए स्कूल ही बंद करा दिया था.
छह साल से बना रही थी मिड डे मील
महिला का कहना है कि 13 वर्ष पहले उनके पति का निधन हो गया था. उनके दो बच्चे हैं. उन्हें पालने के लिए मिडिल स्कूल में बतौर रसोइया उन्हें रखा गया. वह पिछले छह वर्ष से खाना बना रही हैं. लेकिन 16 दिसंबर को गांववालों ने स्कूल पर ताला लगा दिया. इस पर महिला ने डीएम से मिलकर गुहार लगाई थी.
सोशल मीडिया पर खूब हुई तारीफ
राहुल कुमार को चुनाव के दौरान लोगों ने जागरुकता फैलाने के लिए हीरो का तमगा दिया था. अब दोबारा सोशल मीडिया पर उनकी जमकर तारीफ की जा रही है. कई लोगों ने ट्वीट कर उनके इस काम के लिए उन्हें सराहा है.
कुछ लोगों ने तो बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक से कहा है कि इस काम की तारीफ की जानी चाहिए.

#Bihar




Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान ने छोड़ा मांसाहार, बने वेजिटेरियन / Aamir Khan Became Vegetarian

मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान ने छोड़ा मांसाहार, बने वेजिटेरियन / Aamir Khan Became Vegetarian


मुंबई. कंगना रनोट, अनुष्का शर्मा के बाद अब आमिर खान वेजीटेरियन बन गए हैं। दो फरवरी से उन्होंने मांस को हाथ भी नहीं लगाया है। सिर्फ मीट ही नहीं, उन्होंने अंडा और डेयरी प्रोडक्ट तक से तौबा कर ली है यानी वे वीगन बन चुके हैं।







आमिर ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि उन्हें वीगन बनाने में पत्नी किरण राव का हाथ है। वे बताते हैं, 'किरण खुद वीगन हैं। उन्होंने मुझे एक घंटे का वीडियो दिखाया, जिसमें डॉक्टर्स बताते हैं कि किस तरह डायट में बदलाव करके 15 कॉमन सीरियस बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।


बस इसके बाद मैं वीगन बन गया। मैं दही को मिस करता हूं पर खुश हूं कि कुछ भी खा सकता हूं, बिना कैलोरी काउंट किए।' इस हफ्ते 14 तारीख को आमिर खान पचासवां जन्मदिन मनाएंगे। पार्टी को लेकर वे कहते हैं, 'मेरी बर्थ-डे पार्टी की तैयारी किरण कर रही है। उसने मेरे कुछ दोस्तों को बुलाया है, किन्हें मैं नहीं जानता। घर पर पार्टी नहीं होगी यह पक्का है, लेकिन कहां होगी मुझे नहीं पता।'




क्या होता है Vegan:



Vegan एक प्रकार से वेजिटेरियन डाइट है जिसे अपनाने वाले नॉन वेज, अंडे और दूध से बने किसी भी प्रोडक्ट को अपने खाने में शामिल नहीं करते।







Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

पाकिस्तान न्यूज़ साईट दिलवाले मूवी की परफॉर्मेंस ख़राब बता रही है

पाकिस्तान न्यूज़ साईट  दिलवाले मूवी की परफॉर्मेंस ख़राब बता रही है 


ओवर एक्टिंग के कारण मूवी की परफॉर्मेंस बेकार बताई
Reason :-> One particular factor that doesn’t sit well with the audience is the overacting that the actors have indulged in. The comic scenes are loud and the emotional scenes are too intense.

Anyone watching the movie would think: This does not happen in real life.










Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Friday, December 18, 2015

Shah Rukh Khan gets invited to stay in Pakistan by JuD chief Hafiz Saeed

Shah Rukh Khan gets invited to stay in Pakistan by JuD chief Hafiz Saeed






Jamaat-ud-Dawaa (JuD) chief and 26/11 mastermind Hafiz Saeed has invited actor Shah Rukh Khan to Pakistan, amid various controversies surrounding the actor and his stance on #AwardWapsi and the rising incidents of intolerance in India.
Saeed took to Twitter to invite Shah Rukh Khan and other Muslims who "are facing difficulty and discrimination in India" to Pakistan. Although, the account from which he has tweeted has not been verified.
In a series of media interviews on 2 November, (his 50th birthday), Shah Rukh Khan had accepted the growing intolerance in the nation, and admitted that he would return his award as a symbolic gesture.
"Yes there is intolerance, there is growing intolerance. People put words in the air even before thinking. We keep talking about new India, but if this country is not secular, happy in its approach and allowing people to be... the youngsters are not going to stand for it. It's stupid to be intolerant," said Shah Rukh Khan at the Twitter town hall hosted by Rajdeep Sardesai, India Today had reported.
In retaliation, Kailash Vijaybargiya, a senior BJP leader from Madhya Pradesh, called Shah Rukh Khan anti-national and that was followed by Sadhvi Prachi equating him with the alleged 26/11 mastermind.
News Source : http://www.firstpost.com/bollywood/shah-rukh-khan-gets-invited-to-stay-in-pakistan-by-jud-chief-hafiz-saeed-2497430.html


Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

पाकिस्तानी न्यूज़ पेपर दैनिक ट्रिब्यून ने छापा है की शारुख खान ने दिलवाले मूवी देखने के लिए पाकिस्तानियों से आग्रह किया और यह पाकिस्तान में 18 दिसंबर को रिलीज होगी

पाकिस्तानी न्यूज़ पेपर दैनिक ट्रिब्यून ने छापा है की शारुख खान ने दिलवाले मूवी देखने के लिए पाकिस्तानियों से आग्रह किया और यह पाकिस्तान में 18 दिसंबर को रिलीज होगी 







Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

दिलवाले पर #Intolerance: शाहरुख खान की मूवी का देश के 7 राज्यों में विरोध

दिलवाले पर #Intolerance: शाहरुख खान की मूवी का देश के 7 राज्यों में विरोध



*******************************************

Shah Rukh Khan apologises for his comment on 'intolerance' on ABP News' s show Press Conference

अपनी मूवी रिलीज होने से पहले शाहरुख ने 16 दिसंबर को एक चैनल के प्रोग्राम में माफी मांग ली

हालांकि शाहरुख खान ने  देश के असहिष्णु  वाले अपने बयान पर माफी मांग ली है -



**************************************************************************





Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें...http://7joke.blogspot.com

Thursday, December 17, 2015

पागल कम्मो एक छोटा सा बच्चा अपने बगल मै पडोसन के घर गया... बच्चा : Auntyजी, एक कटोरी चीनी दे दो, मम्मी ने कहा है

पागल कम्मो

  एक छोटा सा बच्चा अपने बगल मै पडोसन के घर गया...
बच्चा : Auntyजी, एक कटोरी चीनी दे दो, मम्मी ने कहा है..
.
Aunty : हसते हुये.. हाँ देती हूँ... ओर क्या कहा है तेरी मम्मी ने ?
.
बच्चा : अगर  वो  "काली भैंस" ना दे..
तो
सामने वाली "पागल कम्मो" से लेआना...



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

दुविधा एक सुन्दर युवती एक दवाईयों की दुकान के सामने काफी देर तक खडी थी।

दुविधा

एक सुन्दर युवती
एक दवाईयों की दुकान के सामने
काफी देर तक खडी थी।
भीड़ छटने का
इंतज़ार कर रही थी।
दुकान का मालिक
उसे शक की नजर से
घूर रहा था।
बहुत देर बाद
जब दुकान मे
कोई ग्राहक नही बचा,
तो
वह लड़की दुकान मे आयी।
एक सेल्समन को
धीरे से
एक किनारे बुलाया।
दुकान मालिक
अब और भी ज्यादा
चौकन्ना हो गया।
लड़की ने
धीरे से
एक कागज़
सेल्समन की ओर बढाया।
धीरे से फुसफुसायी,
"भैया,











मेरी
एक डॉक्टर के साथ
शादी तय हो गयी है।


















आज "उनकी"
पहली चिठ्ठी आयी है।
थोडा पढ़कर
सुनायेंगे क्या ?
राइटिंग
समझ मे नहीं आ रही है.......



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

2 छुट्टीयां गाँव में किसी के भी मरने पर शमशान के पास बने सरकारी स्कूल में छुटटी कर दी जाती थी और बच्चों की मौज हो जाती थी। .

2 छुट्टीयां

गाँव में किसी के भी मरने पर शमशान के पास बने सरकारी स्कूल में छुटटी कर दी जाती थी और बच्चों की मौज हो जाती थी।
.
.
आज भी कोई मर गया था इस लिए सभी बच्चे अपने अपने घर जा रहे थे ..
.
.
रास्ते में दो बूढे चौपाल पर हुक्का पी रहे थे ..
चुन्नू मुन्नू ने उन्हें देखा तो हँसने
लगे ..
एक बूढे ने हँसने का कारण
पूछा ..
चुन्नू ने बताया - बाबा मुन्नू कह रहा है "सामने देख 2 छुट्टीयां हुक्का पी रही हैं।



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Brain Buster using mind strictly not allowed... Question : What is the opposite of "Dominoz"? Think.. .

Brain Buster

using mind strictly not  allowed...
Question : What is the opposite of "Dominoz"?
Think..
.
.
.
.
.
.
.
.
Tired?
.
.
.
Answer : "Domi doesn't know"
1 more!!
Question : Whats the opposite of "Pizza Hut"?
.
.
.
.
.
Tired again?
.
.
.
.
Answer : "Pizza hutna mat"
Ok another one!!!
Question : What is the opposite of "Gopalakrishnan"?
.
Keep thinking
.
.
.
.
.
.
Answer : Its "Come-pala Krishnan"
Stop banging your head
..last one!!
Question : What is the opposite of "Subramaniam Sawmi"?
.
.
.
.
.
Gave up?
.
.
.
.
.
.
Answer : "Subramaniam did not see me"
Ok ok last one...
Question : What is the  opposite of "Jogeshwari"?
.
.
.
.
.
.
.
.
Answer : "Jogesh don't worry"            



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

बड़े ठाट से

बड़े ठाट से

मुकेश अम्बानी के एक फैमिली फ्रेंड ने कहा।
" इसीलिए मैं मुकेश अम्बानी के घर नहीं जाता। "
एक बार मैं एंटीलिया गया, नीता भाभी बोलीं---" क्या लेंगे भाईसाहब, फ्रूट जूस...सोडा...चाय...कॉफी... हॉट चॉकलेट...इटैलियन चाय या फ्रोज़न कॉफी ? "
उत्तर---" चाय ले लूँगा, भाभी जी। "
प्रश्न---" सीलोन टी...इन्डियन टी...हर्बल टी...बुश टी...हनी बुश टी...स्पेशल चाइना टी...कोरियन टी...आइज्ड टी...या ग्रीन टी ? "
उत्तर---" जी, सीलोन टी। "
प्रश्न---" भैंस का दूध...गाय का दूध या बकरी का या... ? "
उत्तर---" बस...बस...भाभीजी, गाय का दूध। "
प्रश्न---" फ्रीजलैंड की गाय...आफ्रिकन गाय या...भारतीय गाय..या..? "
उत्तर---" रहने दीजिये भाभी जी, मुझे ब्लैक टी ही पिला दीजिये। "
प्रश्न---" शक्कर के साथ...स्वीटनर....एस्पार्टम....शहद...या..? "
उत्तर---" जी, शक्कर के साथ। "
प्रश्न---" बीट शुगर या कैन शुगर या...? "
उत्तर---" जी, कैन शुगर। "
प्रश्न---" व्हाइट या ब्राउन शुगर या..? "
उत्तर---" अरे चाय को छोड़िये ना भाभी जी, आप तो बस एक गिलास पानी पिला दीजिए। "
प्रश्न---" मिनरल वाटर...टेप वाटर...स्पर्कलिंग वाटर...या डिस्टिल्ड वाटर...या...? "
उत्तर---" मिनरल वाटर। "
प्रश्न---" फ्लेवर्ड या नॉन फ्लेवर्ड...या..? "
उत्तर---" जी....नॉन फ्लेवर्ड। "
प्रश्न---"बिसलरी...एक्वाफिनो....हिमालयन...नीर....न्यासा....या......? "
उत्तर---" माफ़ कीजिये भाभी जी, मुझे तो लगता है मैं, प्यास से ही मर जाऊँगा। "
प्रश्न---" आप कैसी मृत्यु चाहेंगे ? हमारे शेयर होल्डर होकर....या हमारे ऑथराइज्ड डीलर...या सप्लायर....या कस्टमर....? "



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

फर्नीचर व्यवसायी

फर्नीचर व्यवसायी

एक बार एक
फर्नीचर व्यवसायी
अपने मित्र के
आमंत्रण पर दिल्ली गया।
एक शाम वह अकेला ही एक बार में पहुंचा,

बीयर की एक बोतल ली
और बार के एक कोने में
पड़ी टेबल पर जाकर बैठ गया।
उसकी टेबल के पास
एक कुर्सी और थी जो खाली थी।
कुछ देर बाद एक सुंदर सी युवती
उसके पास आकर रुकी ।
उसने अंग्रेजी में हीरालाल से
कुछ कहा जो उसे समझ में नहीं आया
हीरालाल ने उसे बैठने का इशारा किया ।
हीरालाल ने अपनी टूटी फूटी अंग्रेजी में
उससे बात करने की कोशिश की
पर बेकार।
वे दोनों ही एक दूसरे की
बात समझ नहीं पा रहे थे।
आखिर हीरालाल  ने एक कागज पर
बीयर के गिलास का चित्र बनाकर
उसे दिखाया जिसे देखकर
उसने हां में सिर हिलाया।
हीरालाल समझ गया कि लड़की
बीयर पीना चाहती है।
उसने उसके लिए भी
एक बीयर का आर्डर कर दिया।
पीना खत्म होने के बाद
हीरालाल ने एक और कागज पर
खाने से भरी प्लेट का चित्र
बनाकर उसे दिखाया।
उसने फिर हां में सिर हिलाया
और हीरालाल ने खाने का
आर्डर भी कर दिया।
खाना खाने के बाद,
युवती ने एक कागज लिया।
उस पर पलंग का चित्र बनाकर
वह हीरालाल को दिखाकर मुस्कराई ।
हीरालाल ने चकित होते हुए
उसके जबाब में हां में सिर हिलाया
और बिल चुकाकर चला आया।
इस बात को 15 साल हो गये,
आज तक हीरालाल को
यह समझ में नहीं आया
कि लड़की ने कैसे जाना कि...
वह
फर्नीचर का कारोबार करता है...?



Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com

Dhoka khaya hua


Dhoka khaya hua

Beta - ye  साडू ka kya matlab hota hai....
Papa - Beta! साडू ka matlab hota hai,,
Ek hi company se Dhoka khaya hua dusra GRAHAK::!!!


Visit for Amazing ,Must Read Stories, Information, Funny Jokes - http://7joke.blogspot.com 7Joke
संसार की अद्भुत बातों , अच्छी कहानियों प्रेरक प्रसंगों व् मजेदार जोक्स के लिए क्लिक करें... http://7joke.blogspot.com